बाप पीता था शराब बेटे ने चाकू से गोदकर कर दी हत्या…

दिवाली से ही बना रहा था पिता की हत्या करने की योजना

जिन हाथों ने उंगली पकड़कर चलना ‍सिखाया, जिन कंधों ने बचपन में सहारा दिया, जिन हाथों को बुढापे में थरथराते अपने पिता के हाथों को थामकर उनका सहारा बनना था, मगर वे ही हाथ कातिल बनकर अपने ही पिता की जान ले बैठें, सुनकर दिल का दहलना सहज है क्योंकि यह घटना है ही इतनी असहज है दरअसल मामला है हरमाड़ा इलाके के सनसिटी में बुजुर्ग की हत्या के मामले में पुलिस ने खुलासा करते हुए गुरुवार को आरोपी को गिरफ्तार कर लिया लेकिन इस मामले के खुलासे ने समाज में तेजी से आ रहे बदलाव पर सवालिया निशान लगा दिये है क्योकि हत्यारा कोई ओर नही बल्कि मृतक का पुत्र ही निकला। जानकारी के अनुसार एडिश्नल पुलिस कमिश्नर लक्ष्मण गोड़ ने बताया कि 10 अप्रेल को हरमाड़ा क्षेत्र के डी-54 सनसिटी टाउनशिप में मकान में एक बुजुर्ग का शव मिला था जिसके मुंह पर कपड़ा बंधा हुआ था. हरमाड़ा पुलिस मौके पर पहुंची जहां  नजारा देखकर लग रहा था कि किसी लूटेरे गिरोह ने लूट की वारदात को अंजाम दिया है और उसके बाद हत्या करके फरार हो गये वहीं घर में चारों ओर बुजुर्ग का खून फैला हुआ था. लेकिन पुलिस शायद उस समय नही समझ पा रही थी कि हत्यारा भी इस बुजुर्ग का ही खून है। पुलिस ने तहकिकात शुरु की. लेकिन जांच में समय लगने लगा तो मृतक पिता का पुत्र पुलिस पर दबाव बनाने लगा कि हत्यारों को जल्द गिरफ्तार किया जाये. पुलिस ने मृतक के घर आने जाने वालो से पुछताछ शुरु की. दूधवाला, सफाई कर्मचारी, परिजन, रिश्तेदार व मृतक के पूत्र व उसके दोस्तों से भी पुछताछ की गयी. लेकिन कुछ खास सुराग हाथ नही लग पा रहे थे. मौके के निशान लूट की ओर ही इशारा कर रहे थे. लेकिन पुत्र की ओर से दी जा रही जानकारी पुलिस को कुछ संदिग्ध लगी. पुलिस को शक हुआ तो कड़े तरिके से पुछताछ की गयी. और आखिरकार मृतक के पुत्र विशाल उर्फ विक्की यादव ने कबूल कर लिया कि उसने ही अपने पिता फूलचंद यादव की हत्या की है।

घटना को चोरी का रूप देने के लिए बिखेर दिया घर का सामान..
जानकारी के अनुसार पुलिस ने बताया कि पुलिस व परिजनों का गुमराह करने के लिए उसने घटना को चोरी का रुप देने के लिए अपने घर में तीनों कमरों का सामान बिखेर दिया।इसके बाद वह देर शाम को मां, बहन व पत्नी को लेकर घर पहुंचा। तब कमरे में पिता की लाश देखकर हत्या का हंगामा खड़ा कर दिया। वारदात के बाद एएसपी बजरंग सिंह शेखावत के निर्देशन में एसीपी चौमूं फूलचंद, हरमाड़ा थानाप्रभारी रमेश सैनी व साइबर सेल के कांस्टेबल मुकेश कुमार की टीम गठित की गई।

आखिर क्यों किया पिता की हत्या…
 विशाल ने पुलिस को बताया कि घर में रोज शराब पीकर गाली गलौज करता था और उसका पिता उसके साथ सौतेला व्यवहार करता था. पारिवारिक जिम्मेदारियों पर ध्यान नही दे रहा था और अन्य लोगों की ज्यादा मदद किया करता था. ये बात उसे काफी दिनों से सता रही थी और उसने दिवाली के समय से ही पिता की हत्या करने की योजना बना ली थी. और 10 अप्रेल को विशाल ने अपनी मां, पत्नी और पुत्री को विधाधर नगर स्थित अपनी दुकान पर ले गया था. घर पर फूलचंद  अकेला था. दोपहर डेढ बजे विशाल अपने घर आया और मुंह पर कपड़ा बांधकर सोते हुए पिता पर सरिये से पहले तो सर फोड़ा बाद में चाकू से ताबड़तोड़ वार कर हत्या कर दी. पुलिस व परिवारजन को गुमराह करने के लिए घर के तीन कमरों का सामान बिखेर दिया और वारदात को लूट का रुप दे दिया 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here