मरुधर भारती न्यूज़ नेटवर्क
जयपुर/ मुरलीपुरा:– फेसबुक से दोस्ती कर प्ले बॉय बनाने का झांसा देकर लोगों को पैसे के नाम पर बंधक बनाने के बाद सेक्स रैकेट में फंसाने की धमकी देकर 2 लाख रुपए की फिरौती मांगने वाले तीन बदमाशों को मुरलीपुरा थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।गिरफ्तार आरोपी मोहित कुमार टांक निवारू रोड करधनी, आलोक शर्मा चन्द्र नगर कालवाड़ रोड व कपिल छाबड़ा पंजाब के भटिंडा के रहने वाले है. एडीशनल डीसीपी बजरंग सिंह ने बताया कि रविवार दोपहर में चरण नदी निवासी विजेंद्र सिंह ने रिपोर्ट दर्ज करवाई कि किसी ने उसके भाई अजयपाल का किडनैप कर लिया और सेक्स रैकेट में फंसाने की धमकी देकर 2 लाख रुपए मांग रहे है। सूचना के बाद एसीपी गोपाल सिंह भाटी के नेतृत्व में एसआई बद्री प्रसाद व संदीप यादव की टीमें बनाकर मोबाइल लोकेशन के आधार पर बदमाशों को कार सहित करणी विहार थाने के पास पकड़ लिया.

प्राथमिक जांच में सामने आया कि आरोपियों ने शनिवार शाम को पीड़ित को फोन किया और प्ले बॉय बनाने का झांसा देकर करणी विहार इलाके में एक होटल में बुलाया. जहां पर उसी के फोन से घर पर फोन करवाकर दो लाख रुपए की मांग शुरु कर दी. नहीं तो अजयपाल को सैक्स रैकेट में फंसाने की धमकी देने लगे. 15 दिन में आधा दर्जन ठगी- पकड़ते आरोपी खुद को पत्रकार बताने लगे और स्टिंग ऑपरेशन करने की बात कहीं.

ब्लैकमेल किए जाने पर पीड़ित रविंदर ने तहलका. न्यूज़ की टीम को अपने साथ हुई आपबीती सुनाई. पीड़ित ने बताया की आरोपी प्रशांत ने खुद को मिडिया से जुड़े होने का नाम भी लिया था.जिसके बाद तहलका न्यूज़ की टीम को मिली जानकारी के बाद तहलका न्यूज़ की टीम इस घटना की जांच में जुट गयी. पुलिस इन सभी वारदातों की तस्दीक करने में जुटी.

इससे पहले भी बीते दिनों फेसबुक पर दोस्ती करके ठगी करने वाले गिरोह के सदस्यों के बारे में महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे थे.जिसमें शामिल पुरुष और महिलाएं लोगों को पहले फेसबुक के जरिये दोस्ती करते है और फिर फोन कॉल कर अपने झांसे में लेने के बाद ब्लैकमेल करते है. जिसके बाद श्याम नगर पुलिस की टीम ने इस गिरोह का पर्दाफाश किया. इस गिरोह का मुख़्य आरोपी प्रशांत उर्फ मोहित टॉक और गिरोह के दो सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.जिसके बाद आरोपी को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया. कोर्ट से पुलिस ने आरोपी को दो दिन के रिमांड पर लिया था.

यह गिरोह पिछले कुछ समय से शहर में एक्टिव चल रहा था.पुलिस की माने तो अब इस गिरोह से जुड़े कुछ अहम और बड़े खुलासे भी हो सकते है. उम्मीद है कि इस गिरोह के अन्य सदस्य जल्द पुलिस की गिरफ्त में होंगे.माना जा रहा है की इस गिरोह में कुछ बड़े नाम भी सामने आ सकते है.आरोपी न्यूज़ रिपोटर और क्राइम ब्रांच का अधिकारी बनकर कॉल करते थे.और फिर इस तरहे की ठगी को अंजाम देते है.

आप को बता दें कि इससे पहले हुई इस घटना का पता तब लगा जब रविंदर नाम का एक व्यक्ति इसका शिकार हुआ.आरोपी प्रशांत उर्फ मोहित टॉक निवासी निवारू रोड ने रविंदर से क्राइम ब्रांच का हवाला दिया और खुद को मिडिया से जुड़े होने का झूठा नाम लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here