भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank) का नाम बदलने के पक्ष में नहीं है. भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) के अधिग्रहण के बाद IDBI बैंक के निदेशक मंडल ने पिछले महीने बैंक का नाम बदलकर LIC IDBI बैंक या LIC बैंक करने का प्रस्ताव दिया था.

सूत्रों के अनुसार, RBI आईडीबीआई बैंक का नाम बदलने के पक्ष में नहीं है. निदेशक मंडल ने LIC आईडीबीआई बैंक लिमिटेड नाम को तरजीह दी थी. दूसरे विकल्प के रूप में LIC बैंक लिमिटेड नाम दिया था. RBI के अलावा नाम में बदलाव के लिए कॉर्पोरेट मामलों का मंत्रालय, शेयरधारकों, स्टॉक एक्सचेंजों समेत अन्य से मंजूरी की जरूरत होती है.

सरकारी बैंक अब हुआ प्राइवेट
RBI की ओर से जारी नए सर्कुलर में आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank) की कैटेगिरी बदल दी गई है. अब वह सरकारी नहीं, बल्कि प्राइवेट बैंक हो गया है. RBI के ओर से जारी सर्कुलर में साफ कहा गया है कि आईडीबीआई में मालिकाना हक सरकार की जगह LIC के हाथों जाने के बाद बैंक अब निजी क्षेत्र का उपक्रम हो गया है।

बैंक के निजीकरण के खिलाफ हुए कर्मचारी
RBI की ओर से IDBI Bank को प्राइवेट बैंक का दर्जा देने के बाद बैंक के कर्मचारी इसके खिलाफ हो गए हैं. IDBI Bank बैंक के कर्मचारियों ने वेतन और सेवा की सुरक्षा के साथ दूसरे राष्ट्रीयकृत बैंक में शिफ्ट करने की मांग की है. बैंक का निजीकरण करने के विरोध में दी ऑल इंडिया आईडीबीआई ऑफिसर्स एसोसिएशन (AIIDBIOA) ने एक दिवसीय भूख हड़ताल का ऐलान किया है.बता दें कि जनवरी में सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनी LIC ने IDBI बैंक में नियंत्रणकारी 51 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण पूरा कर लिया. पिछले साल अगस्त में मंत्रिमंडल ने बैंक के प्रवर्तक के रूप में LIC को IDBI बैंक में नियंत्रणकारी हिस्सेदारी के अधिग्रहण की मंजूरी दी थी.

The post सरकारी से प्राइवेट हुआ ये बैंक, RBI अब नाम बदलने के पक्ष में नहीं appeared first on SAMACHAR BHARTI.