जैसलमर: रसुखदारों के रसूख के आगे प्रशाशन भी नतमस्तक नजर आने लगा है । इसी का नतीजा है की कुछ दिनो मे ही नव निर्मित गौरवपथ अतिक्रमण की भेंट चढ़ गया । जिसे हटाने को लेकर प्रशाशन ऊँघता नजर आ रहा है गोरतलब है की वर्ष 2017 मे शहर से सम जाने वाले मार्ग पर पैदल चलने वाले राहगीरो के लिए विजय स्तम्भ चौराहे से अमरसागर गाँव तक 3 किलोमीटर गौरवपथ का निर्माण करवाया गया था । मगर रसुखदारों के रसूख के चलते ये गौरवपथ बहुत जल्द अतिक्रमण का शिकार हो गया । इसी मार्ग पर आए एक बड़े होटल ने इस गौरवपथ को अपने निजी क्षेत्र मे शामिल कर वहा अपने आने वाले सेलनियों के गाड़ियो की पार्किंग बना दिया है जिसे आज दिन तक प्रशाशन अतिक्रमण मुक्त नही करवा पाया है ।

इसी गौरव पथ के किनारे रोड लाइट भी लगाई ज्ञी थी जिसे भी वहा से हटा दिया गया है जिसके चलते रात के अंधेरे मे वहा कई बार दुर्घटनाए हो चुकी है परंतु प्रशाशन इन हादसो से कोई सबक लेता नजर नहीं आ रहा है । शहर मे कई बार नगरपरिषद द्वारा कई बार अतिक्रमण हटाओ अभियान भी चलाया जाता है परंतु यह अभियान इन रसुखदारों की दहलीज तक जाने से पहले ही दम तोड़ देता है जिसके चलते अभी तक कभी रसुखदारों के यहा अतिक्रमण नही हट पाया है ओर इन रसुखदारों के हौसले बुलंद होते नजर आ रहे है ।  लाखों रुपए खर्च करने के बाद भी गौरवपथ राहगीरों और पर्यटकों के लिये सिरदर्द बन गया है ओर प्रशासन की उदासीनता का शिकार गौरवपथ आज केवल बड़े होटल की पार्किंग बना नजर आ रहा है । इसी पथ से सम पर्यटन स्थल जाने के लिए लाखों पर्यटक गुजरते है लेकिन इस तीन किलोमीटर लंबे गौरवपथ को लेकर रखरखाव व उपयोग से सम्वन्ति तमाम नियमों को ताक पर रख दिया गया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here